राजस्थान के 137 बांधों एवं नहरों का होगा जीर्णोद्धार, 2600 करोड़ रूपये की महत्वाकांक्षी परियोजना पर हुए हस्ताक्षर



जापान अंतर्राष्ट्रीय कॉर्पोरेशन एजेंसी (जायका) के आर्थिक सहयोग से राजस्थान के 137 बांधों एवं नहरों का होगा जीर्णोद्धार 2600 करोड़ रूपये की महत्वाकांक्षी परियोजना के एम.ओ.यू. पर नई दिल्ली में हुए हस्ताक्षर 

जयपुर
: जापान अंतर्राष्ट्रीय कॉरपोरेशन एजेंसी (जायका) के आर्थिक सहयोग से राजस्थान के 25 जिलों के 137 बांधों और उनकी नहरों का जीर्णोद्धार करने की 2600 करोड़ रूपये की महत्वाकांक्षी परियोजना के लिए शुक्रवार को नई दिल्ली के नार्थ ब्लॉक में भारत सरकार, राजस्थान सरकार और जायका के मध्य एक समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए गए। 

जापान के राजदूत श्री केन्जी हीरामत्सु और वित्त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के संयुक्त सचिव श्री एस.सिल्वा कुमार और राजस्थान के प्रमुख जल संसाधन सचिव श्री शिखर अग्रवाल की उपस्थिति में एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर हुए। समझौता पत्र पर हस्ताक्षर के बाद श्री अग्रवाल ने बताया कि मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे की पहल पर राजस्थान वॉटर सेक्टर लाईवलीहुड प्रोजेक्ट के अंतर्गत हाथ में ली जा रही इस महत्वाकांक्षी परियोजना के पहले चरण में 1068 करोड़ रूपये की लागत से भाखड़ा बांध से संबद्ध राज्य की नहरों की दुरूस्ति के साथ ही राज्य के 25 जिलों के 137 बांधों और उनकी नहरों के जीर्णोद्धार का कार्य शुरू करवाया जाएगा। 

उन्होंने बताया कि चार वर्षीय इस परियोजना के पूर्ण होने पर राज्य में करीब चार लाख अस्सी हजार हेक्टेयर सिंचित क्षेत्र के किसानों को इसका लाभ मिलेगा। परियोजना के अंतर्गत भाखड़ा केनाल सिस्टम, गुड़गांव केनाल सिस्टम, राज्य के 25 जिलों अजमेर, अलवर, सीकर, करौली, टोंक, सवाईमाधोपुर, धौलपुर, भरतपुर, बांरा, झालावाड़, बूंदी, कोटा, उदयपुर, प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, भीलवाड़ा, राजसमंद, पाली, सिरोही, दौसा, जयपुर, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर आदि जिलों के लघु एवं मध्य सिंचाई परियोजनाओं को शामिल किया गया है। 

=> खबर पसंद आये तो हमारे फेसबुक पेज को लाइक जरूर करें 

Post a Comment

0 Comments